शुक्रवार, 10 अप्रैल 2015

जाति व्यवस्था-सम्बन्धी इतिहास-लेखनः कुछ आलोचनात्मक प्रेक्षण - अरविन्द स्मृति न्यास

जाति व्यवस्था-सम्बन्धी इतिहास-लेखनः कुछ आलोचनात्मक प्रेक्षण - अरविन्द स्मृति न्यास

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

सेकुलर बनाम पंथ निरपेक्ष

सेकुलर बनाम पंथ निरपेक्ष पिछले हफ़्ते बड़ी बहस हुई. सेकुलर मायने क्या ? धर्म-निरपेक्ष या पंथ-निरपेक्ष ? धर्म क्या है ? पंथ क्या है ? अँग...